चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ऐतिहासिक यात्रा पर हांगकांग पहुंचे

हांगकांग, एजेंसी। ब्रिटेन द्वारा चीन को हांगकांग वापस सौंपने के 20 वर्ष पूरे होने के मौके पर चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग आज यहां पहुंच गए। राजनीतिक रूप से बंटे हुए शहर में सालगिरह समारोह के दौरान किसी अप्रिय स्थिति से बचने के लिए लोकतंत्र समर्थक प्रचारकों को गिरफ्तार कर लिया गया है। कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के तहत यहां के अधिकतर हिस्सों को बंद कर दिया गया है और लगभग 80 लाख की आबादी वाली इस देश पर चीन की मजबूत होती पकड़ से खफा जनता को समारोह स्थल से दूर रखने के लिए हजारों की संख्या में पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। कड़ी घेराबंदी चीन की उस चिंता को दर्शाती है कि ऐसा कुछ भी नहीं होना चाहिए जिससे इस हाई प्रोफाइल यात्रा पर किसी प्रकार का धब्बा लगे।

जोशुआ वोंग और युवा विधायक नाथान लॉ सहित 20 से अधिक अग्रणी लोकतंत्र समर्थक प्रचारकों को बुधवार रात को प्रदर्शन के दौरान सार्वजनिक उपद्रव करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था और वह अभी भी हिरासत में हैं। वर्ष 2013 में राष्ट्रपति पद का कार्यभार संभालने के बाद यह शी की पहली हांगकांग यात्रा है। यह यात्रा ऐसे समय पर हो रही है जब बीजिंग द्वारा अर्द्ध-स्वायत्त हांगकांग की स्वतंत्रता को खतरा पैदा करने की आशंका तेज हो रही है। शी की तीन दिवसीय इस यात्रा की शुरुआत एयर चीन के विमान से चेक लाप कोक हवाई अड्डे पर पहुंचने के साथ हुई। वह अपनी पत्नी एंव गायिका पेंग ल्यूएन का हाथ थामें सामने आए जहां मार्च कर रहे बैंड और हाथों में झंडे लिए बच्चों ने उनका स्वागत किया। सम्मान से प्रसन्न आ रहे शी ने गर्म हो रहे मौसम पर टिप्पणी की और तेज गर्मी में इंतजार करने के लिए लोगों का शुक्रिया अदा किया। उन्होंने एक संक्षिप्त भाषण में कहा, नौ वर्ष बाद मैं हांगकांग की जमीन पर पैर रख रहा हूं। मैं बेहद प्रसन्न महसूस कर रहा हूं। मेरे दिल में हांगकांग के लिए हमेशा स्थान रहा है।

शी ने कहा कि चीन हांगकांग के विकास में सहयोग करेगा और लोगों की आजीविका में सुधार करेगा जैसा कि वह हमेशा करता आया है। हालांकि उन्होंने कहा कि वह ईमानदारी से यह चाहते हैं कि हांककांग एक बार फिर से पुराना गौरव हासिल कर सके। उन्होंने कहा कि वह हांगकांग के एक देश दो तंत्रों वाली व्यवस्था को सुनिश्चित करना चाहते हैं, जो कि हस्तांतरण समझौते में प्रतिष्ठापित है। साथ ही उन्हें वह अधिकार देता है जो मुख्य भू-भाग में नहीं दिखाई देते। लोकतंत्र समर्थकों का कहना है कि चीन राजनीति से ले कर शिक्षा और मीडिया जैसे क्षेत्र में दखल दे रहा है जिससे तंत्र नष्ट हो रहा है और स्वतंत्रता सीमित की जा रही है। शी के काफिले को कन्वेंशन सेंटर के निकट एक होटल में ले जाया गया है। कन्वेंशन सेंटर के आस पास के क्षेत्र को पानी से भरे विशाल अवरोधकों से घेरा गया है और पुलिस ने कहा है कि वह शी की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आतंक विरोधी सुरक्षा कदम उठा रहे हैं। लोकतंत्र समर्थकों का कहना है कि वे शी की यात्रा का विरोध जारी रखेंगे वहीं स्थानीय निवासियों का कहना है कि वह उनकी यात्रा का जश्न मनाएंगे।

इसी तरह की खबर