नौवहन क्षेत्र में पेंटागन भारत के साथ मिलकर काम करे: सीनेट पैनल

वाशिंगटन, भाषा। हिंद महासागर में चीन की बढ़ती नौसैन्य मौजूदगी के बीच सीनेट के एक प्रमुख पैनल ने पेंटागन से कहा है कि वह पनडुब्बी रोधी युद्ध कौशल के लिए भारत के साथ साझेदारी एवं सहयोग के प्रति अपने रवैये का पुन: आकलन करे। इस संबंध में सीनेटर टेड क्रूज द्वारा लाया गया नेशनल डिफेंस आॅथोराइजेशन एक्ट (एनडीएए) -2018 इस सप्ताह की शुरुआत में सीनेट की सशस्त्र सेवा समिति ने पारित किया था। यह भारत को मिले बड़े रक्षा साझेदार के दर्जे को आगे भी लागू रखने की दिशा में क्रूज के प्रयासों का हिस्सा है।
क्रूज के कार्यालय ने कहा, रणनीतिक लिहाज से 21वीं सदी की कुछ साझेदारियां विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत के साथ अमेरिका की साझेदरी से ज्यादा महत्वपूर्ण हैं। कार्यालय ने कहा, तब भी सीनेटर क्रूज का मानना है कि मौजूदा द्विपक्षीय सहयोग और साझा विकास नौवहन क्षेत्र में जागरूकता एवं पनडुब्बी-रोधी युद्ध कौशल के साझा हितों के अधिक अनुरूप होना चाहिए। क्रूज का यह संशोधन रक्षा मंत्रालय से अपील करता है कि वह भारत के साथ अपनी साझेदारी के प्रति अपने रवैये का दोबारा आकलन करे और इस प्रक्रिया के निरीक्षण के लिए एक व्यक्ति को नियुक्त करे।

इसी तरह की खबर