विकास के लिए नयी तकनीक एवं उद्योग धंधे लगना आवश्यक : योगी

लखनऊ, भाषा। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज कहा कि विकास चरणबद्ध ढंग से होता है और विकास के लिए नयी तकनीक एवं उद्योग धंधे लगना आवश्यक है।
योगी ने कहा, विकास एक दिन में नहीं होता, यह चरणबद्ध ढंग से होता है। विकास के लिए आवश्यक है कि नई तकनीक आए, उद्योग-धन्धे लगें। सूरत, मुम्बई आदि जैसे देश के औद्योगिक नगरों के बारे में हम सभी जो सुनते हैं वैसा अपने प्रदेश में करना चाहते हैं तो इसके लिए सामूहिक प्रयास आवश्यक है। उन्होंने कहा कि इसके लिए बिजली चोरी भी रोकनी होगी, क्योंकि इससे विकास कार्य धीमा हो जाता है। उन्होंने कहा कि बिजली के बिल का भुगतान भी राष्ट्र निर्माण में योगदान है। मुख्यमंत्री ने यहां इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित एक कार्यक्रम में प्रदेश के शहरी गरीब परिवारों के लिए नि:शुल्क विद्युत कनेक्शन योजना का शुभारम्भ किया। इस मौके पर उन्होंने Þई-निवारण Þ मोबाइल एप का शुभारम्भ एवं 580 करोड़ से अधिक की लागत से निर्मित 220ा132 के0वी0 के 10 विद्युत उपकेन्द्रों का लोकार्पण भी किया। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने शहरी गरीब परिवारों को नि:शुल्क विद्युत कनेक्शन योजना के दस लाभाथर्यिों को प्रमाणपत्र भी प्रदान किए।
उन्होंने ऊर्जा मंत्री श्रीकान्त शर्मा और उनके सहयोगियों को बधाई देते हुए कहा कि ऊर्जा विभाग ने अल्पावधि में वह काम कर दिखाया है जो पूर्व में वर्षा में भी नहीं हो सका था। गत चार जून को ऊर्जा विभाग द्वारा इलाहाबाद में [8377]936 करोड़ की परियोजनाओं का लोकार्पण किया गया। आज [8377]580 करोड़ से अधिक की लागत से निर्मित 10 उपकेन्द्रों का लोकार्पण किया गया है। वर्तमान राज्य सरकार ने 100 दिन में 18500 से अधिक मजरों का विद्युतीकरण करने के साथ ही आठ हजार से अधिक ट्रांसफार्मर्स भी बदले हैं, जबकि पिछले पूरे वर्ष में केवल 5871 ट्रांसफार्मर बदले गए थे।

इसी तरह की खबर